कलम-पथ

शब्द जिन्दगी के_____यतीन्द्र नाथ चतुर्वेदी

196 Posts

1093 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12689 postid : 701121

"आप" की मचान से निशाने पर अवाम है।[Jagran Junction Forum]

Posted On: 10 Feb, 2014 social issues,Politics,Celebrity Writer में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

15_YATINDRA jpeg[यतीन्द्र नाथ चतुर्वेदी]_स्वयं अरविन्द केजरीवाल और केजरीवाल के लोगों ने सच तो बोला ही नहीं आजतक। अन्ना को टीम केजरीवाल की रुपये के प्रति लालसा अखर चुकी है। अन्ना को स्वयं के साथ हो चुके छल का मलाल है, जिसके दोषी अपनी टीम के साथ केजरीवाल हैं। केजरीवाल केवल अन्ना के ही नहीं, आम आदमी के भी दोषी हैं। केजरीवाल के दिशाहीनता से व्याकुल अन्ना हैं, हतप्रभ आम आदमी है। भ्रष्टाचार के आँगन में स्वयं केजरीवाल आरोपित खड़े हैं। चंदे की चिकचिक में एक बड़ा लोक-लुभावन मिशन खोया चुका है। दूसरों का चिटठा कच्चा करने वाले केजरीवाल कभी खुद की आईटीआर नहीं भर पाये, तो कभी स्वयं वोट नहीं दे पाये थे आदि आदि।

दिल्ली सरकार अपने जीवन के चालीसवें दिन ही’आप’ से ‘तूतू’ पर उतर आई। श्री अरविन्द केजरीवाल का अब का नाटक आगामी लोकसभा चुनाव लड़ने के लिए बर्खास्त होने की रणनीति का हिस्सा है। स्वयं अरविन्द केजरीवाल और केजरीवाल के लोग सरहद-पार के शत्रुदेश के एजेंट की भाषा बोल रहे है। श्री-विहीन नौसिखिये नेता,लठैतों की अराजक भाषा बोलते है। हिटलर का नया नाम केजरीवाल है। आम आदमी पार्टी अवाम के साथ फरेब कर रही है। गांधी के देश में रोलेट ऐक्ट नहीं लागू कर सकते अरविन्द केजरीवाल। श्री अरविन्द केजरीवाल तो अराजक टाईप की राजनीति कर रहे हैं। स्वयं टीम केजरीवाल ने आम आदमी को छल कर परेशान कर रखा है।

देश और दिल्ली जनहित कि चहल कदमी देखना चाहता है,कामनवेल्थ का जिन्न नहीं। अतीत कुरेद कर जनहित को नहीं बरगला सकते। बुनियाद खोदकर जनहित के गड़े मुर्दों से सरकारें जिन्दा नहीं रहती। जनादेश के दरवाजे पर खड़ा यह राजनीति का गणितमान है। कुछ लोगों ने हमेशा भारत के अंदर एक और भारत बनाया है। ‘आप’ की आम आदमी परिभाषा नागरिक मूल्यों की अवहेलना है। ‘आप’ की आँखे इंसानी जज्बातों में भी भ्रष्टाचार का रंग देखती हैं।_[यतीन्द्र नाथ चतुर्वेदी]

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (8 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

4 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

deepakbijnory के द्वारा
February 15, 2014

sunder samiksha

Vinod Jatav के द्वारा
February 13, 2014

sir ji, apki ye post mujhe bahut achhi lagi, aapne bilkul sach kaha ki kejriwal ji and unki team aam aadmi ke doshi hain, ye khud bhrashtachari hain aur dusro ko chor hone ka certificate bant rahe hain…..


topic of the week



latest from jagran